Breaking News

गलत इलाज का आरोप लगा मैक्स हॉस्पिटल में हंगामा, मैनेजमेंट बोला – बेवजह माहौल बिगाड़ने की हुई कोशिश GHAZIABAD

संजय गिरि / गाज़ियाबाद voice

गाज़ियाबाद के वैशाली स्थित मैक्स हॉस्पिटल में सोमवार को लोगों ने गलत इलाज का आरोप लगाते हुए हंगामा किया. लोगों का आरोप था कि उनका मरीज हॉस्पिटल में भर्ती कराया गया तो उसकी स्थिति इतनी खराब नहीं थी जितनी करीब एक हफ्ता इलाज कराने के बाद हो गयी. उन्होंने हॉस्पिटल के मैनेजमेंट पर और भी कई आरोप लगाए. हंगामे की सूचना पर स्थानीय पुलिस भी मौके पर पहुंची और विवाद को शांत कराने का प्रयास किया. वहीँ, हॉस्पिटल मैनेजमेंट कि तरफ से जारी बयान में कहा गया कि मरीज के इलाज में कोई कोताही नहीं बरती गयी, उल्टा मरीज के साथ के लोगों ने हॉस्पिटल में दाखिल होकर बेवजह हंगामा किया और माहौल को बिगाड़ने की कोशिश की.

दरअसल, साहिबाबाद गाँव निवासी 24 वर्षीय मनोज को पेट में इन्फेक्शन होने पर 7 सितम्बर को वैशाली स्थित मैक्स हॉस्पिटल में भर्ती कराया गया था. तब से लगातार डॉक्टरों की देखरेख में उसका उपचार चल रहा था. सोमवार सुबह अचानक मरीज के साथ के कई लोग हॉस्पिटल के ओपीडी एरिया में दाखिल हुए और हंगामा शुरू कर दिया. मनोज के भाई ने आरोप लगाया कि हॉस्पिटल में मनोज को पांच दिन वेंटीलेटर पर भी रखा गया लेकिन डॉक्टरों ने न तो मनोज से मिलने दिया और न ही उसके इलाज को लेकर सही जानकारी दी. बाद में उसकी हालत लगातार बिगड़ती चली गयी.

मरीज के साथ हॉस्पिटल आये लोगों के हंगामे को देख वहां हॉस्पिटल के सिक्यूरिटी हेड दीपक शर्मा व मैनेजमेंट के लोग पहुंचे व उन्हें समझाने का प्रयास किया. लेकिन वह कुछ भी सुनने को तैयार नहीं थे. इस दौरान वहां मौजूद साहिबाबाद गाँव के पार्षद हिमांशु चौधरी ने भी बीच-बचाव किया. हंगामे की सूचना पर स्थानीय पुलिस भी वहां पहुंची जिसके बाद हंगामा कर रहे लोगों व हॉस्पिटल के डॉक्टरों के बीच बात करायी गयी लेकिन वहां भी दोनों पक्षों के बीच तू-तू, मै-मै चलती रही. कुछ देर बाद हंगामा करने वाले लोग शांत हुए और वापस लौट गए.

इस सम्बन्ध में वैशाली के मैक्स हॉस्पिटल ने भी अपना पक्ष रखा. हॉस्पिटल के यूनिट हेड डॉ गौरव अग्रवाल ने बताया कि मरीज के हॉस्पिटल आने व उसके बाद से लगातार उसका उपचार किया जाता रहा. इस सम्बन्ध में उनके परिजनों को भी समय-समय पर जानकारी दी जाती रही. लेकिन, सोमवार को बिना किसी सही कारण के 30-40 लोग हॉस्पिटल में घुसे व कर्मचारियों और इलाज करने वाले डॉक्टरों को धमकी दी. उन्होंने अस्पताल परिसर में हंगामा खड़ा कर दिया, अस्पताल में भर्ती अन्य रोगियों की सुरक्षा को खतरे में डालते हुए किसी भी सामाजिक मानदंड का पालन नहीं किया.

Check Also

श्रेया हॉस्पिटल में स्वास्थ्य जागरूकता शिविर का आयोजन, कोरोना कर्मवीरों को किया गया सम्मानित GHAZIABAD

अभिषेक सिंह / गाज़ियाबाद voice साहिबाबाद के शालीमार गार्डन स्थित श्रेया हॉस्पिटल में विश्व फिजिओथेरेपी …