Breaking News

यहां होगी झमाझम बारिश, लोगों को गर्मी से मिलेगी निजात…जानिये क्या है मानसून

गाज़ियाबाद voice डेस्क

देश के आठ राज्यों में भारी बारिश होने का अलर्ट जारी किया गया है. मौसम विभाग के अनुसार मानसून आ चुका है, लेकिन इसकी रफ्तार पहले के मुकाबले कम है. यही कारण है कि लोगों को भारी गर्मी से राहत नहीं मिल पा रही है. मौसम विभाग के अनुसार जिन राज्यों में बारिश से लोगों को गर्मी से राहत मिलने वाली है उनमें बिहार, झारखंड, कर्नाटका, छतीसगढ़, मध्यप्रदेश , उतराखंड, हरियाणा व दिल्ली शामिल हैं.

भीषण गर्मी से जूझ रहे हैं लोग

हालांकि, मौसम विभाग ने पिछले दिनों घोषणा की थी कि हरियाणा के गुरूग्राम, फरीदाबाद, सोनीपत, रोहतक, हिसार कौसली, महेंद्रगढ़ चरखी दादरी, झज्जर, नारनौल व रेवाड़ी में 20-40 किलोमीटर की रफ्तार से हवा चल सकती है और बारिश हो सकती है. लेकिन इनमें से कुछ जिलों में हल्की फुल्की बूंदाबादी को छोडक़र बाकि में बारिश नहीं हुई, जिसके चलते आज भी लोग भीषण गर्मी से परेशान हैं. मौसम विभाग ने एक बार फिर से अनुमान जताया है कि इन आठ राज्यों में जल्द ही मानसून की बारिश होगी, जिससे लोगों को गर्मी से राहत मिल सकती है.

जारी रहेगा बारिश का सिलसिला

मौसम विभाग की मानें तो देश में अगले 24 घंटे के दौरान तटीय राज्यों आंध्र प्रदेश, दक्षिण तटीय ओडीशा, तेलंगाना, मणिपुर, मिजोरम और त्रिपुरा में कई जगहों पर हल्की बारिश होने का अनुमान है. पूर्वोत्तर भारत और पूर्वी बिहार व उत्तर प्रदेश के कुछ जिलों सहित इन राज्यों के कुछ हिस्सों में बारिश की संभावना है. बारिश होने का यह सिलसिला दो दिन तक जारी रह सकता है.

ये होता है मानसून और ऐसे आती है बारिश

मानसून क्या होता है और इससे कैसे बारिश आती है, बहुत से लोगों को इसके बारे में जानकारी नहीं होगी. तो चलिए हम बताते हैं कि आखिर क्या होता है मानसून. दरअसल, मानसून मुख्य रूप से हिंद महासागर एवं अरब सागर की ओर से भारत की ओर आने वाली तेज हवाओं को कहते हैं. हिंद महासागर व अरब सागर की ओर से आने वाली हवाएं अपने साथ वर्षा लाती हैं. भारत के दक्षिण-पश्चिम तट पर आने वाली हवाओं के साथ आने वाली बरसात को ही मानसून वर्षा कहा जाता है. ये तेज हवाएं ही भारत, पाकिस्तान व बंगलादेश में बारिश करवाती हैं, जिसे मानसून वर्षा कहा जाता है. ये मौसमी हवाएं दक्षिण एशिया में जून से सितंबर तक यानि कि चार महीने तक सक्रिय रहती हैं. मानसून शब्द का प्रयोग ब्रिटिश काल में भारत, पाकिस्तान व बांग्लादेश के लिए किया गया था. यह शब्द बंगाल की खाड़ी और अरब सागर से चलने वाली मौसमी हवाओं के लिए प्रयोग किया जाता है जो दक्षिण पश्चिम से चलकर इन देशों में भारी वर्षा लाती हैं. इसे मानसून कहा जाता है. मानसून की बरसात आने के बाद ही इन देशों में लोगों को गर्मी से राहत मिलती है.

Check Also

श्रेया हॉस्पिटल में स्वास्थ्य जागरूकता शिविर का आयोजन, कोरोना कर्मवीरों को किया गया सम्मानित GHAZIABAD

अभिषेक सिंह / गाज़ियाबाद voice साहिबाबाद के शालीमार गार्डन स्थित श्रेया हॉस्पिटल में विश्व फिजिओथेरेपी …