Breaking News

युवक को सरेराह लोहे की रॉड से बेरहमी से पीट-पीट कर उतारा मौत के घाट, पुलिस की लापरवाही हुई जगज़ाहिर GHAZIABAD

संजय गिरि / गाज़ियाबाद voice  

गाज़ियाबाद के लोनी इलाके में एक बार फिर सरेराह खूनी खेल खेला गया. मंदिर के बाहर फूल बेचने की दुकान के विवाद में एक शख्स ने युवक पर तमंचे से गोली चलाने का प्रयास किया. गोली नहीं चली तो उसने अपने साथी के साथ मिलकर युवक को सरेराह लोहे की रॉड से बेरहमी से पीटा. दोनों हमलावर एक पर एक युवक पर वार करते रहे जिससे उसका सिर व चेहरा बुरी तरह लहूलुहान हो गया. इस दौरान वहाँ आसपास से लोग गुज़रते रहे लेकिन किसी ने हमलावरों को रोकने या युवक की जान बचाने का प्रयास नहीं किया. अस्पताल ले जाए जाने के दौरान युवक की दर्दनाक मौत हो गयी. पूरे मामले में लोनी पुलिस की लापरवाही व असंवेदनशीलता खुल कर जगज़ाहिर हुई. हालांकि, इस वीभत्स वारदात की वीडियो वायरल होने के बाद पुलिस हरकत में आयी और दो आरोपियों को गिरफ्तार कर लिया.

फूल बेचने की दुकान को लेकर था विवाद

दिल्ली के सोनिया विहार निवासी अजय शर्मा की लोनी के डीएलएफ, अंकुर विहार स्थित महाकाल मंदिर परिसर में फूल व प्रसाद बेचने की दुकान है. मंदिर के बाहर ही गोविद नाम का युवक भी फूलों की दुकान लगाता था. इसे लेकर दोनों में तनातनी रहती थी क्यूंकि अक्सर लोग गोविद की दुकान से फूल लेकर मंदिर में चढ़ाते थे. वहीँ, अजय की दुकान मंदिर के भीतर होने के चलते उसके फूल नहीं बिक पाते थे. इस बात को लेकर दोनों पक्षों के बीच अक्सर विवाद रहता था.

तमंचे में फंसी गोली तो लोहे की रॉड से लगातार किये वार

रोजाना की तरह सोमवार को दोपहर अजय मंदिर परिसर में दुकान बंद कर पैदल जाने लगे. मंदिर के बाहर ऑटो न मिलने पर वह पैदल डीएलएफ चौक की ओर चल दिए. चौक पर जैसे ही वह ऑटो में बैठे तभी गोविंद और उसके साथी ने उन्हें नीचे खींच लिया. गोविद ने जान से मारने की नियत से फायरिंग की लेकिन गोली मिस होकर तमंचे में अटक गई. जिसके बाद गोविंद और उसके साथी अमित ने लोहे की रॉड से अजय को बेरहमी से पीटना शुरू कर दिया. दोनों दिनदहाड़े व सरेराह अजय को बेरहमी से पीटते रहे लेकिन वहां से गुज़र रहे लोगों ने हमलावरों को रोकने या अजय को बचाने की ज़हमत नहीं उठायी. वारदात के बाद दोनों हमलावर मौके से फरार हो गए. सूचना मिलने पर मौके पर पहुंची पुलिस अजय को लहूलुहान हालत में दिल्ली के अस्पताल ले कर गयी जहाँ डॉक्टरों ने उसे मृत घोषित कर दिया. जिसके बाद पुलिस ने अजय के शव को पोस्टमार्टम के लिए भेजा.

पुलिस हिरासत में हत्यारोपी

हमलावर पीटते रहे, तमाशबीन देखते और वीडियो बनाते रहे

लोनी थाना क्षेत्र स्थित खजूरी पुश्ता रोड पर दिनदहाड़े हुई इस वारदात ने मानवता को शर्मसार कर दिया. दोनों हमलावर लोहे की रॉड से अजय को बेरहमी से पीटते रहे और वहां से पैदल व वाहनों से गुजरते लोग तमाशबीन बने रहे. इतनी संख्या में भीड़ के रूप में तमाशा देख रहे लोगों ने दो हमलावरों को रोकने की कोशिश तक नहीं की. यही नहीं, कुछ तमाशबीन तो इस घटना की वीडियो भी बनाते रहे.

आठ महीने पहले लिख दी गई थी मौत की पटकथा

इस मामले में आठ महीने पुरानी वीडियो भी सामने आयी है जो स्थानीय पुलिस की कारगुजारी सामने लाने के लिए काफी है. वीडियो के मुताबिक़ आठ महीने पहले भी मुख्य हत्यारोपी गोविन्द ने अजय के भाई पर चाकुओं से हमला कर गंभीर रूप से ज़ख़्मी कर दिया था. यही नहीं, गोविन्द ने तब ही अजय को जान से मारने की धमकी दे डाली थी. इस मामले में तभी पुलिस से शिकायत की गयी थी. लेकिन परिजनों का आरोप है कि पुलिस ने मामले में ठोस कार्यवाई करने के बजाय समझौता कराने पर जोर दिया जिसका नतीजा आज सभी के सामने है.

पुलिस हिरासत में हत्यारोपी

हीलाहवाली करने वाली पुलिस पीठ थपथपाने में नहीं रही पीछे

हालांकि, शुरुआत में हीलाहवाली करने वाली लोनी पुलिस व उच्चाधिकारी अजय पर हमले का खौफनाक व दिल दहला देने वाला वीडियो सामने आने के बाद हरकत में आ गए. अपनी लापरवाही व संवेदनहीनता को छिपाते हुए पुलिस अधिकारियों ने तीन घंटे में इस घटना में शामिल मुख्य हत्यारोपी गोविन्द की गिरफ्तारी का बखान कर अपनी पीठ थपथपाने में कोई कोर कसार नहीं छोड़ी. देर शाम गोविन्द के साथी अमित की गिरफ्तारी का प्रेस नोट भी गाज़ियाबाद पुलिस ने जारी किया.

Check Also

श्रेया हॉस्पिटल में स्वास्थ्य जागरूकता शिविर का आयोजन, कोरोना कर्मवीरों को किया गया सम्मानित GHAZIABAD

अभिषेक सिंह / गाज़ियाबाद voice साहिबाबाद के शालीमार गार्डन स्थित श्रेया हॉस्पिटल में विश्व फिजिओथेरेपी …