Breaking News

लुटेरी ‘अम्मा’ और उसके प्रेमी ने दिया था डबल मर्डर की वारदात को अंजाम, चंद घंटों में पुलिस ने किया गिरफ्तार GHAZIABAD

विनोद गिरि / गाज़ियाबाद voice  

मसूरी थाना क्षेत्र स्थित शताब्दीपुरम के सरस्वती विहार में शनिवार रात डबल मर्डर की सनसनीखेज वारदात का पुलिस ने चंद घंटों में ही खुलासा कर दिया. पुलिस ने लूट का विरोध करने पर महिला व ट्यूशन टीचर की हत्या व तीन बच्चों को लहुलुहान करने वाली लुटेरी ‘अम्मा’ व उसके प्रेमी को मुठभेड़ के बाद गिरफ्तार कर लिया. पुलिस हत्या में इस्तेमाल पिस्टल के साथ गयी ज्वेलरी व नकदी भी बरामद की है.

बता दें कि, शनिवार रात शताब्दिपुरम के सरस्वती विहार इलाके में रहने वाले लोकमन ठाकुर के घर दोहरे हत्याकांड की सनसनीखेज वारदात को अंजाम दिया गया था. लुटेरों ने लोकमन की बहू डोली (30) व बच्चों को ट्यूशन पढ़ाने आई अंशु (18) की लूट का विरोध करने पर बेरहमी से हत्या कर दी थी. वहीँ, उनके पोते-पोतियों गौरी (6), मीनाक्षी (4) व रूद्र (5) को भी गंभीर रूप से जख्मी कर दिया था. इसके बाद लुटेरे घर से सोने-चांदी की ज्वेलरी व नकदी लूट कर फरार हो गए थे.

वारदात की सूचना मिलते ही मौके पर पहुंचे आईजी रेंज, एसएसपी कलानिधि नैथानी, एसपी ग्रामीण, एसपी क्राइम व क्षेत्राधिकारी ने गहनता से छानबीन की और हत्यारों की गिरफ्तारी के लिए अलग-अलग पांच टीमें गठित की गयीं. पुलिस की शुरूआती छानबीन में कारपेंटर आस मोहम्मद शक के घेरे में थे लेकिन वारदात के समय उसकी मौजूदगी उसके घर पर होने की पुष्टि होने पर पुलिस ने उसे क्लीन चिट दे दी थी.

पुलिस की जांच वारदात में घायल लोकमन की पोती गौरी के बयान के बाद दूसरी दिशा में घूम गयी. गौरी ने बताया कि इस वारदात को लाल क्वार्टर में रहने वाली महिला जिसे वह ‘अम्मा’ कहती थी उसने व टेलर अंकल ने की है. पुलिस ने गौरी को दोनों की तस्वीर दिखाई तो उसने उसकी तस्दीक भी कर दी. जिसके बाद पुलिस बिना देर किये आरोपियों की तलाश में जुट गयी.   

एसएसपी कलानिधि नैथानी ने बताया कि पुलिस टीमों द्वारा तत्परता से कार्रवाई करते हुए इलेक्ट्रॉनिक सर्विलांस, मैनुअल इंटेलिजेंस, बयान व पूछताछ के आधार पर अभियुक्त सोनू पुत्र लियाकत निवासी लाल क्वार्टर थाना सिहानी गेट को मुठभेड़ के दौरान और परिवार की रिश्तेदार महिला उमा पत्नी हरीश निवासी लाल क्वार्टर थाना सिहानी गेट को घटना के चंद घंटों में गिरफ्तार कर लिया गया. अभियुक्त उमा पीड़ित परिवार की पूर्व परिचित रिश्तेदार हरीश की पत्नी है व सोनू उसका प्रेमी है.

पुलिस ने आरोपियों के पास से पिस्टल, तमाचा, घर से लूटे गए सोने/चांदी के जेवरात व  नकदी और घटना के समय पहने हुए कपड़े, मोबाइल फोन बरामद किया है. पुलिस गिरफ्त में आई उमा ने बताया कि गाँव के रिश्ते से डोली उसकी सास की पोती लगती थी और वह डोली की अम्मा. डोली और उसके तीनों बच्चे उमा को अम्मा कहते थे. सोनू व उमा काफी समय से लूट की प्लानिंग कर रहे थे.

शनिवार को दोनों प्लानिंग के मुताबिक़ लोकमन के घर पहुंचे. दोनों ने घर में चाय भी पी. इसके बाद सोनू ने सभी को कमरे में बंद कर दिया और उमा बाहर खड़ी निगरानी करने लगी. तभी सोनू ने डोली व अंशु को गोली मारी और किचन से पेचकस, चाकू व सिलबट्टे से बच्चों पर वार कर उन्हें लहुलुहान किया. इसके बाद सोनू लोकमन के कमरे के सेफ से ज्वेलरी व नकदी निकालने चला गया. ज्वेलरी कहां रखी है इस बारे में डोली ने पूर्व में उमा से ज़िक्र किया था. एसएसपी ने बताया कि दोनों आरोपियों को गिरफ्तार कर जेल भेजा जा रहा है.

Check Also

श्रेया हॉस्पिटल में स्वास्थ्य जागरूकता शिविर का आयोजन, कोरोना कर्मवीरों को किया गया सम्मानित GHAZIABAD

अभिषेक सिंह / गाज़ियाबाद voice साहिबाबाद के शालीमार गार्डन स्थित श्रेया हॉस्पिटल में विश्व फिजिओथेरेपी …