Breaking News

मृतक रिंकू शर्मा के हत्यारों को दी जाए फांसी, यूपी की तर्ज पर ढहाए जाएँ उनके मकान : नन्द किशोर गुर्जर GHAZIABAD

गौरव राय / गाज़ियाबाद voice            

दिल्ली के मंगोलपुरी में दो दिन पहले विश्व हिंदू परिषद् के 25 वर्षीय कार्यकर्ता रिंकू शर्मा की निर्मम हत्या के बाद लोगों में आक्रोश है. शुक्रवार को लोनी विधायक नन्द किशोर गुर्जर भी मंगोलपुरी स्थित मृतक रिंकू शर्मा के आवास पर पहुंचे और शोकाकुल परिजनों को ढाढस बंधाते हुए कहा कि दोषियों को किसी भी कीमत पर बख्शा नहीं जाएगा. विधायक ने प्रशासन से उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ जी की तर्ज पर दोषियों के मकान ढहाने के अतिरिक्त स्पीडी ट्रायल के जरिए फांसी की सजा और दिल्ली सरकार से मृतक के आश्रितों को एक करोड़ रूपए मुआवजा व सरकारी नौकरी दिए जाने के लिये  मांग की है.

मृतक रिंकू शर्मा के घर पहुंचे लोनी विधायक नंदकिशोर गुर्जर वहां परिजनों के आंसू देखकर भावुक हो गए. इस दौरान सुरेश चवाहन व भाजपा नेता पं0 ललित शर्मा भी उनके साथ मौजूद रहे. विधायक ने मृतक की माँ और भाई को ढाढस बंधाते हुए कहा कि आज इस भारी दु:ख की घड़ी में सभी आपके साथ हैं. रिंकू शर्मा को न्याय दिलाने के लिए पूरे देश भर से आवाज उठ रही है. सोशल मीडिया आदि के जरिए भी न्याय की मांग चल रही है और किसी भी कीमत पर दोषियों को बख्शा नहीं जाएगा.

विधायक नंदकिशोर गुर्जर ने कहा कि लगातार दिल्ली में इस तरह की घटना सामने आ रही है. एक धर्म विशष के लोग जो खुद को भारत में डरा हुआ बताते हैं, कभी बीच सड़क पर अंकित सक्सेना, कभी ध्रुव त्यागी तो कभी राहुल राजपुत की निर्ममता से हत्या कर रहे हैं. इन हत्याओं में चाकुओं का इस्तेमाल किया जा रहा है जो किसी साजिश का हिस्सा प्रतीत होता है.

विधायक ने कहा कि इनका दुस्साहस देखिए की एक रामभक्त रिंकू को घर से खींचकर चाकुओं से गोद दिया जाता है उसके बाद घर को आग लगाने की कोशिश की जाती है. यह किसी आतंकी घटना से कम नहीं है क्योंकि इस घटना के बाद से आस-पास के लोग डरे हुए हैं. उन्होंने बताया कि अधिकारियों से बातचीत के दौरान उन्हें कहा गया है कि दोषियों पर रासुका के तहत मुकदमा दर्ज हो और स्पीडी ट्रायल में 15 दिन में फांसी दी जाए.

साथ ही विधायक ने दिल्ली सरकार पर हमला करते हुए कहा कि दिल्ली की सरकार वोट बैंक की राजनीति में डूबी हुई है इसलिए इन लोगों को दादरी में गौतस्कर अखलाक और झारखंड में तबरेज नाम के चोर की हत्या दिख जाती है लेकिन अपनी दिल्ली में ध्रुव त्यागी, राहुल राजपुत, डॉ नारंग और आज रिंकू शर्मा की हत्या नहीं दिखती. विधायक ने दिल्ली सरकार की इस चुप्पी को संदेहास्पद बताते हुए कहा कि एक धर्म विशेष के द्वारा बहुसंख्यकों समाज पर हमला इन लोगों की शह पर एक साजिश के तहत किए जा रहे हैं जिसकी उच्चस्तरीय जांच होनी चाहिए.

विधायक ने कहा कि झारखंड में एक चोर की हत्या पर सरकारी नौकरी और मुआवजा लेकर पहुंचने वाले अरविंद केजरीवाल जी से हम मांग करते है कि सभी जाति और धर्म के लोगों से समान व्यवहार करते हुए दिल्ली के निवासी मृतक रिंकू शर्मा के परिजनों को एक करोड़ का मुआवजा और मृतक के परिवार के सदस्य को सरकारी नौकरी दी जाए. साथ ही उन्होंने प्रशासन से उत्तर प्रदेश की तरह दोषियों का घर भी ढहाने के लिए मांग की जिससे भविष्य में इस तरह की हृदयविदारक घटना की पुनरावृत्ति न हो सके.

Check Also

श्रेया हॉस्पिटल में स्वास्थ्य जागरूकता शिविर का आयोजन, कोरोना कर्मवीरों को किया गया सम्मानित GHAZIABAD

अभिषेक सिंह / गाज़ियाबाद voice साहिबाबाद के शालीमार गार्डन स्थित श्रेया हॉस्पिटल में विश्व फिजिओथेरेपी …