Breaking News

फोर्टिफाइड चावल के वितरण को बढ़ाने के निर्णय का गाज़ियाबाद स्थित सोना मशीनरी के सीईओ वासु नरेन ने किया समर्थन GHAZIABAD

विनोद गिरि / गाज़ियाबाद voice

पोषण सुरक्षा सुनिश्चित करने और कुपोषण से लड़ने के लिए, सरकार ने इस साल अप्रैल से फोर्टिफाइड चावल के वितरण को बढ़ाने का फैसला किया है, जिसका उद्देश्य देश में एनीमिया और सूक्ष्म पोषक तत्वों की कमी की समस्याओं का समाधान करना है. चावल के फोर्टिफिकेशन में चावल को पीस कर पाउडर तैयार कर उसमें पोषक तत्त्वों जैसे विटामिन A, विटामिन B1, विटामिन B12, फोलिक एसिड, आयरन और जिंक आदि का मिश्रण किया जाता है. इस फोर्टिफाइड चावल के मिश्रण को पुन: चावल के आकार में बदला जा सकता है, जिसे ‘फोर्टिफाइड राइस कर्नेल’ कहा जाता है.

इस फोर्टिफाइड राइस कर्नेल को सामान्य चावल के साथ 1: 99 के अनुपात में मिश्रित किया जाता है तथा इसके बाद इसे ‘सार्वजनिक वितरण प्रणाली’ के तहत बिक्री के लिये जारी कर दिया जाता है. भारत की लगभग 65 प्रतिशत आबादी चावल को मुख्य भोजन के रूप में खाती है इसलिए फोर्टिफाइड राइस कर्नेल (एफआरके) की उपलब्धता बढ़ाने के लिए कई उपाय किए जा रहे हैं.

इस विषय में वासु नरेन, सीईओ, सोना मशीनरी प्रा. लि. ने कहा, “सोना मशीनरी, राइस मिलिंग मशीनरी की श्रेणी में होने के कारण, फोर्टीफाइड चावल के वितरण को बढ़ाने के लिए सरकार के इस महत्वपूर्ण कदम का समर्थन करती है. इसी तरह अन्य फोर्टीफाइड खाद्य उत्पादों को भी व्यापक रूप से उपलब्ध कराने की तत्काल आवश्यकता है जिसमें दूध, खाना पकाने का तेल आदि भी शामिल हैं. क्यूंकि भारत में इसकी बड़े पैमाने पर खपत होती है. यह लंबी अवधि के लिए परिवार के प्रतिरक्षा-निर्माण पोषक तत्वों को प्रदान करने का एक व्यवस्थित तरीका है और संक्रमणों के खिलाफ प्रतिरोध को बढ़ावा देने में मदद कर सकता है”.

उन्होंने आगे कहा  वर्तमान में हमारे पास आवश्यक मशीनरी नहीं है, लेकिन हम पोषण मूल्य की बढ़ती मांग को पूरा करने के लिए इस साल के धान के मौसम से फोर्टिफाइड चावल मशीनरी में विविधता लाने की योजना बना रहे हैं. 1995 में स्थापित हुई सोना मशीनरी प्राइवेट लिमिटेड विविध कृषि-प्रसंस्करण मशीनरी की अग्रणी निर्माता, निर्यातक और सप्लायर है, और चावल की मिलिंग मशीनरी में विशेषज्ञ है.

सोना मशीनरी के उत्पाद गाजियाबाद में उनके 10000 वर्ग मीटर में फैले कारखाने में निर्मित हैं. राज्य के स्वामित्व वाली भारतीय खाद्य निगम (एफसीआई) ने सभी राज्यों में राइस मिलर्स के लिए फोर्टिफाइड राइस के उत्पादन के लिए मिश्रित बुनियादी ढांचे को स्थापित करना अनिवार्य कर दिया गया है.

Check Also

श्रेया हॉस्पिटल में स्वास्थ्य जागरूकता शिविर का आयोजन, कोरोना कर्मवीरों को किया गया सम्मानित GHAZIABAD

अभिषेक सिंह / गाज़ियाबाद voice साहिबाबाद के शालीमार गार्डन स्थित श्रेया हॉस्पिटल में विश्व फिजिओथेरेपी …