Breaking News

“Data Science : The Changing Business Landscape” विषय पर ऑनलाइन राष्ट्रीय समिट का आयोजन

न्यूज़ डेस्क / गाज़ियाबाद voice

आईटीएस मोहन नगर ग़ाज़ियाबाद में “Data Science : The Changing Business Landscape” विषय पर एक ऑनलाइन राष्ट्रीय समिट का आयोजन किया गया। इस समिट में ऐकडेमिक, रिसर्च एवं आईटी इंडस्ट्री के स्थापित विशेषज्ञों ने अपने विचार व्यक्त किये। समिट के आरम्भ में आईटीएस मोहन नगर ग़ाज़ियाबाद के आईटी एवं स्नातक परिसर के निदेशक प्रो0 सुनील पांडेय ने अतिथियों का स्वागत करते हुए डाटा साइंस के विकास एवं इसकी बढ़ती उपयोगिता और महत्वा पर चर्चा करते हुए कहा की जिस प्रकार सोशल मीडिया, आर्टिफीसियल इंटेलिजेंस, मशीन लाइर्निंग का प्रसार हो रहा है, इन पर आधारित अनुप्रयोगों के कारण बहुत तेजी से डाटा का विस्तार हो रहा है जिसके कारण शोधार्थियों पर वैकल्पिक अनुप्रयोगों के विकास की आवश्यकता भी बढ़ रही है।

समिट के मुख्य अतिथि के रूप में अपने सम्बोधन में आईआईबीएम के सलाहकार तथा कंप्यूटर सोसाइटी ऑफ़ इंडिया के पूर्व प्रेजिडेंट प्रो0 एके नायक ने अपने सम्बोधन में वर्तमान में सूचना प्रौद्योगिकी के क्षेत्र में चल रहे शोध एवं विकास कार्यों पर विस्तार से प्रकाश डाला। उन्होंने अपने सम्बोधन में डाटा साइंस की व्यवसाय जगत में बढ़ती उपयोगिता पर प्रकाश डालते हुए कहा की जिस प्रकार IoT का प्रसार बढ़ रहा है, डाटा के स्टोरेज एवं संरक्षण की चुनातिअन बढ़ रही हैं हुए उसका समाधान ढूंढ़ने की आवश्यकता है।

इसके पूर्व आईटीएस मोहन नगर ग़ाज़ियाबाद की स्नातक परिसर की उपप्राचार्या प्रोफ नैंसी शर्मा ने अतिथियों का स्वागत करते हुए इस समिट की रूप रेखा पर प्रकाश डाला। उन्होंने डाटा साइंस की विधा पर चर्चा करते हुए कहा की डाटा के प्रकार एवं उनके रखरखाव की दिशा में अनेक चुनौतियाँ हैं जिनका समाधान ही डाटा के सही उपयोग को सुनिश्चित कर सकता है।

मुख्य वक्ता के रूप में अपने सम्बोधन में RMSI के वाईस प्रेजिडेंट (टेक्नोलॉजी) श्री उपकार सिंह ने डाटा साइंस के वाणिज्यिक अनुप्रयोगों पर चर्चा करते हुए कहा की इस तकनीक की प्रत्येक क्षेत्र में उपयोग ने सभी के लिए इसे समझने और प्रयोग करने की प्रक्रिया को आवश्यक कर दिया है। उन्होंने कहा की इस क्षेत्र के बहुआयामी एवं बिस्तृत होने के कारण प्रत्येक विधा के छात्रों को नए रोजगार के अवसर उपलब्ध हो रहे हैं और सभी को इसका लाभ उठाना चाहिए।

अपने सम्बोधन में GSMA के तकनीक निदेशक श्री गौतम हज़ारी ने आर्टिफीसियल इंटेलिजेंस और मशीन लर्निंग के बारे में महत्वपूर्ण चर्चा करते हुए इसके विकास, अनुप्रयोगों के साथ-साथ शोध कार्यों पर विस्तार से चर्चा की। उन्होंने अपने सम्बोधन में अनेक महत्वपूर्ण शोध की दिशाओं, संभावित पेटेंट एवं कार्यों के बारे में चर्चा की।

NIT कुरुक्षेत्र के कंप्यूटर साइंस & इंजीनियरिंग विभाग के प्रमुख प्रोफ0 आशुतोष सिंह ने IoT तथा बिग डाटा के समन्वय एवं अनुप्रयोगों पर चर्चा करते हुए अनेक शोद कार्यों पर प्रकाश डाला। डाटा साइंस के क्षेत्र में ख्याति प्राप्त विशेषज्ञ श्री सतीश राय ने डाटा साइंस के अनुप्रयोगों तथा इसके विभिन्न आयामों पर विस्तार से चर्चा करते हुए इसके व्यावहारिक बिंदुओं पर प्रकाश डाला।

अपने सम्बोधन में समिट के वक्ताओं के क्रम में एजाइल कंसलटेंट श्री मनु मलिक ने डाटा साइंस से सम्बंधित प्रमुख अवयवों पर चर्चा करते हुए कहा की एक एक विस्तृत क्षेत्र है जिसमें अपनी रूचि एवं प्रवीणता की अनुसार ही सफल हुआ जा सकता है। उन्होंने अपने सम्बोधन में छात्रों को भी अपनी भूमिका के तलाश करने की सलाह दी। कार्यक्रम के अंत में प्रो0 पूजा धर ने धन्यवाद ज्ञापित किया। इस समिट में देश एवं विदेश के लगभक 1000 लोगों ने भाग लिया।

Check Also

एनडीआरएफ में धूमधाम से मनाया गया स्वतंत्रता दिवस

न्यूज़ डेस्क / गाज़ियाबाद voice आठवीं बटालियन एनडीआरएफ में धूमधाम से मनाया गया स्वतंत्रता दिवस …