Breaking News

ज्वेलरी शॉप में चोरी करने वाला हाई प्रोफाइल गिरोह चढ़ा पुलिस के हाथ, फ्लाइट से सफर कर देते थे वारदातों को अंजाम GHAZIABAD

अभिषेक सिंह / गाज़ियाबाद voice

कुछ दिनों पहले साहिबाबाद के शालीमार गार्डन व मोदीनगर में ज्वेलरी शॉप का शतर काट कर चोरी की दो बड़ी घटनाओं का पुलिस ने पर्दाफ़ाश किया है. पुलिस ने वारदात को अंजाम देने वाली एक महिला सहित चार आरोपिओं को गिरफ्तार किया है. पुलिस ने इनके पास से चोरी की गयी ज्वेलरी व लाखों की नकदी के साथ गैस कटर व अन्य उपकरण भी बरामद किया है. चोरों के इस गिरोह का नेटवर्क देश में विभिन्न स्थानों पर फैला हुआ था और यह हवाई यात्रा कर दूर-दराज के शहरों में वारदातों को अंजाम देते थे.

गाज़ियाबाद के पुलिस लाइन में प्रेस कांफ्रेंस के दौरान एसपी ग्रामीण डॉ. ईरज राजा ने बताया कि साहिबाबाद क्षेत्र में बुधवार रात ऑल्टो कार में चोरी की वारदात करने की फिराक में घूम रहे एक महिला व तीन युवकों को पुलिस ने हिरासत में लिया. पूछताछ में उन्होंने अपना नाम पसौंडा निवासी इंतजार, बागपत के सिघावली अहीर निवासी जाहिद और मेरठ के लिसाढ़ीगेट निवासी समीर बताया.

एसपी ग्रामीण चारों को पूछताछ के बाद गिरफ्तार कर पुलिस टीम ने उनके पास से 2.10 लाख रुपये, करीब पांच लाख रुपये का चांदी का सामान और गैस कटर व सिलेंडर मिला बरामद किया. आरोपियों ने 9 फरवरी को शालीमार गार्डन स्थित न्यू बोम्बे जेम्स एंड ज्वेल्स में व 26 फरवरी को मोदीनगर में गुरुद्वारा रोड स्थित सर्राफा दुकानों के शटर गैस क़तर से काटकर लाखों का माल चोरी किया था.

एसपी ग्रामीण ने बताया कि समीर का भाई तनवीर फरार है, हालांकि उसकी भाभी को पुलिस ने गिरफ्तार किया है. उन्होंने बताया कि वह चार साल से पत्नी के साथ मिल कर गिरोह को चला रहा है. बीते 11 साल में गिरोह तेलंगाना, आंध्र प्रदेश, राजस्थान, हरियाणा, बेंगलुरु, मुंबई और उत्तर प्रदेश में करीब 250 वारदात को अंजाम दे चुका है. इस साल भी दो महीने में चार वारदात कर चुका है.

गिरोह का नेटवर्क हर राज्य में स्थानीय चोरों से जुड़ा हुआ था. चोर इस गिरोह के लिए रेकी कर मुख्य बाजार से दूर स्थित छोटी सर्राफा दुकानों को चिह्नित करते थे. दुकान चिह्नित होने के बाद तनवीर अपने मुख्य साथी संग फ्लाइट से जाता और रात के समय शटर काटकर चोरी के बाद तनवीर अपनी पत्नी को फोन करता था. चोरी के बाद पत्नी भी फ्लाइट से वहां पहुंचती और चोरी का सामान लेकर ट्रेन से मेरठ लौट आती. यहां गिरोह से जुड़े तीन सर्राफा व्यापारियों को सामान बेच देती थी. महिला होने के चलते कोई आसानी से उस पर शक नहीं कर पाता था.

एसपी सिटी द्वितीय ज्ञानेंद्र कुमार सिंह ने बताया कि मेरठ से निकला यह गिरोह बावरियों की तर्ज पर वारदात चोरी की वारदात को अंजाम देता आ रहा था. आरोपी सर्राफा दुकानों को ही निशाना बनाते रहे हैं. तनवीर व उसके साथी पांच साल पहले मुंबई से जेल जा चुके हैं. इन्हें तेलंगाना में भी पकड़ा गया था. एसपी द्वितीय ने बताया कि वारदात के समय तनवीर स्थानीय साथी का वाहन फर्जी नंबर लगाकर प्रयोग करता था. गाजियाबाद की दोनों वारदात में गिरोह के सदस्य इंतजार की अल्टो कार ले गए थे और उसकी फुटेज सीसीटीवी कैमरे में भी कैद हुई थी.

Check Also

श्रेया हॉस्पिटल में स्वास्थ्य जागरूकता शिविर का आयोजन, कोरोना कर्मवीरों को किया गया सम्मानित GHAZIABAD

अभिषेक सिंह / गाज़ियाबाद voice साहिबाबाद के शालीमार गार्डन स्थित श्रेया हॉस्पिटल में विश्व फिजिओथेरेपी …