Breaking News

जल के बदले आग मांगी तो संभाल नहीं पाएगी सरकार : राकेश टिकैत GHAZIABAD

विनोद गिरि / गाज़ियाबाद voice

भारतीय किसान यूनियन का नए कृषि बिलों के खिलाफ लगातार आंदोलन जारी है. इसी कड़ी में मंगलवार को हरियाणा से कई खाप चौधरी गाजीपुर बॉर्डर पर पहुंचे व भारतीय किसान यूनियन के राष्ट्रीय प्रवक्ता राकेश टिकैत को पगड़ी पहनाकर सम्मानित किया. हनुमानगढ़ से आये प्रमोद बेनीवाल ने भी उन्हें पगड़ी भेंट कर स्वागत किया. भाकियु के मीडिया प्रभारी धर्मेन्द्र मलिक के अनुसार संयुक्त किसान मोर्चा से जोगिन्दर सिंह व सतनाम सिंह पन्नू के नेतृत्व में लगभग 400 ट्रैक्टर सिंघु बॉर्डर से गाजीपुर बॉर्डर पहुंचे. इस मौके पर राकेश टिकैत आक्रामक रूप में नज़र आये और कहा कि किसान का गुस्सा जल की बदौलत शांत हुआ है लेकिन सरकार उसके बदले आग मांग रही है.

सभा को संबोधित करते हुए संयुक्त किसान मोर्चा के जोगिंदर सिंह ने कहा कि इस आंदोलन को बचाने का श्रेय चौधरी राकेश टिकैत को है जिन्होंने सरकार की बड़ी साजिश को नाकाम किया है. साथ ही कहा कि आज सभी बॉर्डर पर सरकार द्वारा जो इंटरनेट, बिजली, पानी की व्यवस्था को बंद किया जा रहा है, जो खाई और तारबंदी की जा रही है ऐसी स्थिति में वार्ता का माहौल नहीं बन सकता है.

जोगिन्दर सिंह ने कहा कि राकेश टिकैत इस आंदोलन के हीरो हैं और देश की किसान बिरादरी पर उनका एहसान है. इसके बाद राकेश टिकैत ने कहा कि आंदोलन बचाने का श्रेय युवा शक्ति व किसानों को है. जिस तरह से युवा शक्ति ने रात में ही गाजीपुर बॉर्डर को भर दिया, पंजाब-हरियाणा के युवा सुबह तक यहां पहुंच चुके थे. रात दो बजे ही उत्तर प्रदेश और हरियाणा के कई जनपदों से हजारों की संख्या में युवा पहुंच चुके थे. इन सबके प्यार और विश्वास से इस आंदोलन को बचाया गया है.

आन्दोलन की अगुवाई कर रहे राकेश टिकैत ने कहा कि किसानों के गुस्से को जल के माध्यम से शांत किया है, किसान का गुस्सा जल के माध्यम से शांति की तरफ गया है. इस पवित्र जल को सरोवर सहित देश की सभी नदियों में प्रवाहित किया जाएगा.

राकेश टिकैत आक्रामक लहजे में बोले कि सरकार गलतफहमी में ना रहे, अगर जल के बदले आग मांगने का आह्वान कर दिया तो सरकार संभाल नहीं पाएगी. आज जिस तरह से माहौल बनाया जा रहा है और तारबंदी की जा रही है, बिजली काटी जा रही है, शौचालय नहीं दिए जा रहे हैं, इंटरनेट बंद कर दिया गया है आखिर सरकार चाहती क्या है. उन्होंने कहा कि लोकतंत्र में इन सब चीजों के लिए कोई स्थान नहीं है. यह नागरिकों के मौलिक अधिकारों का हनन है हम इसकी निंदा करते हैं.

Check Also

श्रेया हॉस्पिटल में स्वास्थ्य जागरूकता शिविर का आयोजन, कोरोना कर्मवीरों को किया गया सम्मानित GHAZIABAD

अभिषेक सिंह / गाज़ियाबाद voice साहिबाबाद के शालीमार गार्डन स्थित श्रेया हॉस्पिटल में विश्व फिजिओथेरेपी …