Breaking News

कांग्रेस के राष्ट्रीय प्रवक्ता राजीव त्यागी का हृदयाघात से निधन, लोगों में शोक की लहर GHAZIABAD

संजय गिरि / गाज़ियाबाद voice

टीवी डिबेट में मुखर तरीके से अपनी बात रखने वाले कांग्रेस के राष्ट्रीय प्रवक्ता राजीव त्यागी का बुधवार शाम अचानक निधन हो गया. बुधवार शाम को भी उन्हें टीवी डिबेट में शामिल होना था जिसकी जानकारी उन्होंने अन्य दिनों की तरह फेसबुक पर साझा की थी. शाम को गाज़ियाबाद के वसुंधरा स्थित अपने घर से ही निजी न्यूज़ चैनल के टीवी डिबेट में लाइव जुड़े राजीव त्यागी की तबीयत अचानक बिगड़ गयी. आनन-फानन में उन्हें गाज़ियाबाद के कौशाम्बी स्थित यशोदा हॉस्पिटल ले जाया गया जहां डॉक्टरों ने उन्हें मृत घोषित कर दिया. बताया गया कि हृदयाघात के चलते उनकी मृत्यु हुई. राजीव त्यागी की अचानक मृत्यु से उनके परिवार के साथ ही कांग्रेस के कार्यकर्ताओं व अन्य लोगों के बीच शोक की लहर दौड़ गयी.

खबर मिलते ही जुट गई लोगों की भीड़

कांग्रेस के तेज-तर्रार प्रवक्ता राजीव त्यागी  टीवी चैनलों पर बढ़े ही प्रभावशाली तरीके से पार्टी का पक्ष रखते थे.  राजीव त्यागी के असामयिक निधन पर कांग्रेस के साथ ही अन्य राजनैतिक दलों से जुड़े नेताओं, मीडिया जगत के लोगों व सामाजिक लोगों ने भी शोक जताया है. राजीव त्यागी की मृत्यु की खबर मिलने के बाद कौशाम्बी स्थित यशोदा हॉस्पिटल व उनके घर के बाहर दुःख जताने वाले लोगों की भारी भीड़ एकत्रित हो गयी.

कांग्रेस पार्टी के ध्वज में लिपटे राजीव त्यागी के पार्थिव शरीर को देख विलाप करते परिजन

डिबेट में जोरदार तरीके से रखते थे अपनी बातों को

गाज़ियाबाद के वसुंधरा सेक्टर-16 स्थित अपने मकान में रहने वाले राजीव त्यागी का जन्म 20 जून 1970 को हुआ था. उनकी पहचान कांग्रेस के ऐसे प्रवक्ता के रूप में रही है जिन्होंने कठिन समय में भी पार्टी का साथ नहीं छोड़ा. वह कांग्रेस की बातों को मज़बूत तथ्यों व तर्कों को जोरदार तरीके से सभी के सामने रखते थे. लगभग हर टीवी चैनल पर उन्हें डिबेट करते हुए देखा जाता था.

कांग्रेस के नेताओं ने जताया शोक

राजीव त्यागी के निधन की खबर मिलने पर बीजेपी प्रवक्ता संबित पात्रा ने गहरा शोक जताया है. उन्होंने ट्वीट कर अपनी संवेदना व्यक्त की. कांग्रेस के भी राष्ट्रीय व स्थानीय नेताओं ने उनके निधन पर दुःख जताया. पूर्व मंत्री सतीश शर्मा ने कहा कि राजीव त्यागी उनके भाई जैसे थे और उनकी असामयिक मृत्यु से उन्हें गहरा आघात पहुंचा है. कांग्रेस नेता नरेन्द्र राठी ने कहा कि राजीव त्यागी की पहचान संघर्षशील कार्यकर्ता व नेता के रूप में रही. राठी ने कहा कि राजीव त्यागी किसान आन्दोलन के दौरान साथ रहे व मेरे साथ जेल भी गए. उनका अचानक यूँ चले जाना हतप्रभ करने वाला है.  

राजीव त्यागी की मृत्यु की खबर मिलते ही वसुंधरा स्थित उनके घर के बाहर जुटी लोगों की भीड़

लोगों ने गहरा दुःख प्रकट किया

मिलनसार व्यवहार वाले राजीव त्यागी राजनीति के साथ ही अन्य लोगों में भी ख़ासा लोकप्रिय थे. उनके निधन पर आईएमए (इंडियन मेडिकल एसोसिएशन) व सीमाओ के पूर्व अध्यक्ष डॉ विनय अग्रवाल ने भी गहरा दुःख व्यक्त किया. उन्होंने कहा कि राजीव त्यागी उनके बेहद करीबी थे और वह अक्सर उनसे कई विषयों पर चर्चा करते थे. गाज़ियाबाद के कौशाम्बी स्थित यशोदा हॉस्पिटल के प्रबंध निदेशक डॉ पी एन अरोड़ा ने भी राजीव त्यागी के असामयिक निधन पर शोक जताते हुए कहा कि वह मिलनसार होने के साथ मददगार भी थे जो हमेशा किसी कि मदद के लिए तैयार रहते थे. यशोदा हॉस्पिटल के मुख्य कार्यकारी अधिकारी डॉ सुनील डागर ने कहा कि राजीव त्यागी उर्जावान व्यक्तित्व के धनी व उनके बेहद करीबी थे. डॉ डागर ने राजीव त्यागी के परिवार के प्रति गहरी संवेदना व्यक्त की. यशोदा हॉस्पिटल के सीनियर मैनेजर गौरव पाण्डेय ने कहा कि राजीव त्यागी उनसे बेहद स्नेह रखते थे. उन्होंने कहा कि राजीव त्यागी का अचानक चले जाना उनके लिए बेहद कष्टदायक है.

Check Also

श्रेया हॉस्पिटल में स्वास्थ्य जागरूकता शिविर का आयोजन, कोरोना कर्मवीरों को किया गया सम्मानित GHAZIABAD

अभिषेक सिंह / गाज़ियाबाद voice साहिबाबाद के शालीमार गार्डन स्थित श्रेया हॉस्पिटल में विश्व फिजिओथेरेपी …