Breaking News

मरीजों के इलाज में हीलाहवाली करने वाले अस्पतालों के खिलाफ प्रशासन हुआ सख्त

दीपक शर्मा / गाज़ियाबाद


वैश्विक महामारी कोरोना के दौर में अस्पताल में इलाज के लिए आने वाले मरीजों से सही व्यवहार और उन्हें एडमिट न करने वाले अस्पतालों के खिलाफ प्रशासन सख्त हो गया है. ऐसे अस्पतालों की शिकायत मिलने के बाद प्रशासन इनके खिलाफ नोटिस जारी कर कार्रवाई करेगा. इसके लिए जिले के मुख्य सरकारी व निजी अस्पतालों में बनाई गई हेल्प डेस्क को और सक्रिय कर दिया गया है और प्रशासन प्रतिदिन इसकी समीक्षा कर रहा है.

लगातार कवायद में जुटा है प्रशासन
कोरोना वायरस के संक्रमण से लोगों को सुरक्षित रखने के लिए शासन के निर्देश पर गाज़ियाबाद का प्रशासन लगातार कवायद में जुटा है. कोरोना का संक्रमण रोकने के लिए तमाम तरह के उपाय किये जा रहे हैं. जिले के प्रमुख सरकारी व निजी अस्पतालों में इमरजेंसी सेवाएं शुरू भी कराई गई हैं. इन अस्पतालों में आने वाले मरीजों को किसी तरह की समस्या न हो और अस्पताल प्रबंधन के साथ बेहतर तालमेल और उन्हें विभिन्न सुविधा मुहैया हो सके इसके लिए पूर्व में अस्पतालों में हेल्पडेस्क बनाई गई थीं जिसका नोडल अधिकारी अपर मुख्य चिकित्साधिकारी डॉ संजय अग्रवाल को नियुक्त किया गया था.

अस्पतालों की मिल रही थी शिकायत
दरअसल, लॉक डाउन के दौरान कुछ अस्पतालों की शिकायतें मिल रही थीं कि वहां मरीजों के इलाज में कोताही बरती जा रही है. इसके साथ ही अस्पताल में मिलने वाली सुविधाओं से भी मरीजों को वंचित रखा जा रहा है. जिसके बाद जिलाधिकारी के आदेश पर अस्पतालों में इमरजेंसी सेवाओं के साथ ही हेल्प डेस्क बनवाया गया था. हेल्प डेस्क को सुचारू रूप से चलाने के लिए पर सिविल डिफेंस के वार्डन को भी जिम्मेदारी दी गयी है.

प्रशासन नोटिस जारी कर करेगा कार्यवाई
जिलाधिकारी अजय शंकर पाण्डेय के मुताबिक़ हेल्प डेस्क का मुख्य उद्देश्य यह है कि अस्पतालों में आने वाले मरीजों को इंतजार न करना पड़े और उनका जल्द से जल्द उपचार शुरू हो सके. उन्होंने बताया कि मरीजों के उपचार में हीलाहवाली करने वाले अस्पतालों के खिलाफ प्रशासन नोटिस जारी कर कार्रवाई करेगा.

Check Also

श्रेया हॉस्पिटल में स्वास्थ्य जागरूकता शिविर का आयोजन, कोरोना कर्मवीरों को किया गया सम्मानित GHAZIABAD

अभिषेक सिंह / गाज़ियाबाद voice साहिबाबाद के शालीमार गार्डन स्थित श्रेया हॉस्पिटल में विश्व फिजिओथेरेपी …