Breaking News

9 लोगों की मौत के बाद प्रशासन की टूटी नींद, छापेमारी के बाद 1 करोड़ के पटाखे किये नष्ट Ghaziabad

अभिषेक सिंह / गाज़ियाबाद

गाज़ियाबाद के मोदीनगर में पटाखा फैक्ट्री में भीषण आग में 9 लोगों की जान जाने के दो दिन बाद आखिरकार प्राशासन की नींद टूटी. मंगलवार को पुलिस-प्रशासन की टीम टीला मोड़ थाना क्षेत्र के फरुख नगर इलाके में पहुंची और अवैध रूप से पटाखे बनाए जाने स्थानों पर छापेमारी की. छापेमारी में पुलिस को एक आलीशान कोठी व अन्य स्थानों में छिपाकर बनाए जा रहे पटाखों की खेप बरामद हुई जिसकी कीमत करोड़ों में आंकी जा रही है. टीम ने इस सम्बन्ध में कानूनी कार्यवाई करते हुए बरामद पटाखों को खाली स्थान पर जेसीबी से गड्ढे खुदवाकर उसमे डालकर नष्ट करा दिया.

पटाखों का सबसे बड़ा अड्डा था फरुख नगर

बता दें कि, टीला मोड़ थाना क्षेत्र का फरुख नगर इलाका दिल्ली-एनसीआर में पटाखे/आतिशबाजी बनाने का सबसे बड़ा अड्डा हुआ करता था, लेकिन कई बार हादसों में लोगों कि जान गंवाने व न्यायालय के आदेश पर यहाँ पटाखों के निर्माण या बिक्री पर पिछले कुछ समय से प्रतिबन्ध लगा दिया गया है.

भारी मात्रा में बरामद हुए पटाखे

जिलाधिकारी डॉ अजय शंकर पाण्डेय के निर्देश पर मंगलवार की दोपहर तीन बजे उपजिलाधिकारी खालिद अंजुम, एएसपी साहिबाबाद केशव कुमार व तहसीलदार प्रकाश सिंह अचानक दल बल के साथ फरुख नगर पहुंचे.वहां पहुँचते ही उन्होंने छापेमारी कि कार्यवाई शुरू हुई तो स्थानीय लोग सकते में आ गये. तीन घंटे चली कार्रवाई के दौरान टीम को एक घर के बरामदे में खड़ी कार में पटाखा बनाने का कच्चा माल बरामद हुआ. कोठी की तलाशी लेने पर तहखानों में छिपा कर रखे गए करीब दस ट्राली पटाखे बरामद हुए.

जेसीबी कि मदद से नष्ट कराये गए बरामद पटाखे  

छापेमारी करने वाली टीम फरुख नगर में ही अन्य घरों में पहुंची तो वहां भी चोरी-छिपे अवैध रूप से पटाखे बनाए जाने का काम चल रहा था. इस दौरान अधिकारियों को घर की अलमारी, बेड, संदूक और घर के पास खाली स्थान में झाड़ियों में छिपाकर रखे पटाखे और भारी मात्रा में कच्चा माल भी बरामद हुआ.  अवैध रूप से पटाखा बनाकर घरों में स्टोर किया गया था. अधिकारियों की मानें तो अधिकांश पटाखे शादी समारोह में आतिशबाजी के लिए बनाए गए थे. अधिकारियों ने सभी पटाखों को जब्त कर उन्हें जेसीबी कि मदद से गड्ढों में दबवाकर नष्ट करा दिया.

घर में छिपाकर राखी गयी थी राइफल

फरुख नगर में छापेमारी कि कार्यवाई के दौरान अधिकारियों को घर में छिपाकर रखी गयी लाइसेंसी राइफल भी मिली जिसका लाइसेंस इसरार अहमद के नाम पर था. अधिकारियों ने बताया कि बरामद राइफल के लाइसेंस के निलंबन की संस्तुति की जाएगी. उपजिलाधिकारी खालिद अंजुम ने बताया कि जिनके घरों व अन्य स्थानों से छापेमारी के दौरान अवैध पटाखे मिले हैं उनके खिलाफ सख्त कानूनी कार्यवाई की जा रही है.

कई बड़े हादसे हो चुके हैं फरुख नगर में  

कभी एनसीआर में पटाखे कि सबसे बड़ी मंडी रहे फरुख नगर में पूर्व में कई बड़े हादसे हो चुके हैं जिनमे सैकड़ों लोग अपनी जान गँवा चुके हैं. वर्ष 2017 के अप्रैल माह में यहाँ पटाखा फैक्ट्री में कार्य करते हुए धमाके में पांच लोगों की मौत हुई थी. वहीँ, 29 अक्टूबर 2016 को यहाँ कि एक पटाखा फैक्ट्री में धमाके व आग लगने से एक मजदूर की मौत हो गई थी. हादसे में महिला समेत कई लोग घायल हुए थे. इसके अलावा भी फरुख नगर में कई बड़े  हादसे हो चुके हैं.

Check Also

श्रेया हॉस्पिटल में स्वास्थ्य जागरूकता शिविर का आयोजन, कोरोना कर्मवीरों को किया गया सम्मानित GHAZIABAD

अभिषेक सिंह / गाज़ियाबाद voice साहिबाबाद के शालीमार गार्डन स्थित श्रेया हॉस्पिटल में विश्व फिजिओथेरेपी …